. . बे साख़ता सुनाए ख़ुदा, दिल से उठी क़ैस पुल भर में ताज़ा कर गईं ईमान तितलियां . . .


.
.
बे साख़ता सुनाए ख़ुदा, दिल से उठी क़ैस
पुल भर में ताज़ा कर गईं ईमान तितलियां
.
.
.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *