. . काग़ज़ के सबज़ बाग़ में गुल तो बहुत मिले ता उम्र ढूंढता रहा इंसान तितलियां . . .


.
.
काग़ज़ के सबज़ बाग़ में गुल तो बहुत मिले
ता उम्र ढूंढता रहा इंसान तितलियां
.
.
.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *