. . हम हैं शम्मा की लड़ लो और वुह मुँह फुलाए बैठे हैं . . .


.
.
हम हैं शम्मा की लड़ लो
और वुह मुँह फुलाए बैठे हैं
.
.
.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *