. . गुलाब, तितली की आमद पे ख़म हुए जैसे ग़ुलाम, =मल्लिका को झुक कर सलाम करते हैं . . .


.
.
गुलाब, तितली की आमद पे ख़म हुए जैसे
ग़ुलाम, =मल्लिका को झुक कर सलाम करते हैं
.
.
.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *